Monday, June 24, 2024
HomeBiographyछत्रपति शिवाजी महाराज का जीवन परिचय|| Biography of Chhatrapati Shivaji Maharaj.

छत्रपति शिवाजी महाराज का जीवन परिचय|| Biography of Chhatrapati Shivaji Maharaj.

छत्रपति शिवाजी महाराज,  छत्रपति शिवाजी महाराज का हिंदी जीवन परिचय, छत्रपति शिवाजी महाराज का इतिहास, छत्रपति शिवाजी महाराज जन्म, मृत्यु, परिवार, पत्नी, पता, जाति, धर्म, शिक्षा, जयंती। {Chhatrapati Shivaji Maharaj, Chhatrapati Shivaji Maharaj Biography in Hindi, Chhatrapati Shivaji Maharaj History, Chhatrapati Shivaji Maharaj Birth, Death, Family, Wife, Address, Caste, Religion, Education, Birth Anniversary}

Table of Contents

पूरा नाम (Full Name)शिवाजी राजे भोंसले 
उपनाम (Nickname)छत्रपति शिवाजी, शिवाजी महाराज 
जन्म (DOB) 19 फरवरी 1630 ई.
जन्म स्थान (Birthplace)   शिवनेरी दुर्ग, महाराष्ट्र 
पेशा (Profession)शासक(राजा)
ग्रह नगर (Hometown)शिवनेरी दुर्ग, महाराष्ट्र
पिता का नाम (Father)   शाह जी भोंसले 
माता का नाम (Mother)       जीजा बाई 
राजघराना (royalty) मराठा 
गुरु (Teacher)समर्थ रामदास 
पत्नी (Wife)सईबाई, सोयराबाई, पुतळाबाई, सकवरबाई  
भाई (Brother)इकोजी (सौतेला भाई)
बेटे(sons)संभाजी, राजाराम 
बेटी(Daughter) सखुबाई, रूनुबाई, अम्बिकाबाई, दीपाबाई, कमला बाई   
राज्याभिषेक(Coronation) 6 जून 1674 ई.
शासनकाल (Reign) 1674- 1680 ई. (38 वर्ष)
शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification)ज्ञात नहीं 
राष्ट्रीयता (Nationality)   भारतीय 
धर्म (Religion)हिन्दू 
शौक (Hobbies)घुड़सवारी, तलवारबाजी
मृत्यु (Death)3 अप्रैल 1680 ई. (आयु 50 वर्ष)
मृत्यु स्थान (Death Place)रायगढ़ मराठा साम्राज्य महाराष्ट्र 
समाधि स्थल (Burial Ground)रायगढ़ दुर्ग महाराष्ट्र 

1. शिवाजी का जन्म व शुरुआती दौर : 

  • दिनांक 19 फ़रवरी 1630 को छत्रपति शिवाजी का जन्म शिवनेरी दुर्ग में हुआ था। 
  • शिवाजी के पिता का नाम  शाहजी भोंसले था तथा माँ का नाम जीजाबाई था 
  • शिवनेरी दुर्ग पुणे के पास स्थित है। 
  • छत्रपति शिवाजी महाराज के पिता एक मराठा सेनापति थे। 
  • उनके पिता डेक्कन सल्तनत के लिए कार्य करते थे।
  • शिवाजी की माँ बहुत ही धार्मिक किस्म की थी। वह शिवाजी को बचपन से ही युद्ध की किस्से व युद्ध की घटनाओं के बारे में बताया करती थी। 
  • जीजा बाई ने खासकर शिवाजी को महाभारत और रामायण की कहानी सुनाया करती थी। जिनका असर बाद में शिवाजी पर पड़ा।


2. शिवाजी का नामकरण :

  • शिवाजी की माँ ने इनका नाम  भगवान शिवाय के नाम के रूप में शिवाजी रखा था। जिसकी वजह ये थी की जीजा बाई भगवान शिवाय से स्वस्थ संतान के लिए प्रार्थना करती थी। उन्हीं के फलस्वरूप उन्हें शिवाजी जैसा रत्न पैदा हुआ था जिस कारण इनका नाम शिवाजी रखा गया। 

3. शिवाजी के पिता का दूसरा विवाह : 

  • आगे चलकर छत्रपति शिवाजी के पिता ने दूसरा विवाह कर लिया था  
  • तथा अपनी दूसरी पत्नी तुकाबाई के साथ कर्नाटक में रहने के लिए चले गए थे। 
  • शाह जी ने शिवाजी व उनकी माँ को दादोजी कोंणदेव के पास छोड़ दिया था। 
  • दादोजी से ही छत्रपति शिवाजी महाराज ने युद्ध की बुनियादी तकनीकों को सीखा जैसे घुड़सवारी करना, निशानेबाजी करना, भाला फेकना, तलवारबाजी करना इत्यादि। 


4. छत्रपति शिवाजी महाराज का विवाह : 

  • 14 मई 1640 सईबाई निम्बलाकर से शिवाजी ने विवाह किया।  
  • शिवाजी का विवाह लाल महल, पुणे में हुआ था। 

5. शिवाजी का राज्याभिषेक : 

  • शिवाजी के राज्याभिषेक के 12 दिन पश्चात उनकी माँ जीजा बाई का देहांत हो गया, जिस कारण शिवाजी का राज्याभिषेक दुबारा किया गया। 
  • कुछ समय बाद 4 अक्टूबर 1674 ई. छत्रपति शिवाजी का दूसरी बार राज्याभिषेक किया गया। 

6. संस्कृत भाषा को दिया बढ़ावा : 

  • शिवाजी महाराज के परिवार में संस्कृत का काफी अच्छा ज्ञान था जिस वजह से शिवाजी ने भी आगे चलकर संस्कृत भासा को बढ़ावा दिया। 
  • यहां तक की शिवाजी ने अपने दुर्ग (सिंधु दुर्ग, प्रचंडगढ़ व सुवर्णदुर्ग) का नाम भी संस्कृत भाषा में रखा। 
  • शिवाजी महाराज के राजपुरोहित (केशव पंडित)  भी संस्कृत भाषा के महान कवि व शास्त्री थे। 


7. कट्टर हिन्दू थे शिवाजी :  

  • छत्रपति शिवाजी महाराज एक कट्टर हिन्दू भी थे। वैसे शिवा जी सभी धर्मों का सम्मान किया करते थे। यहां तक की शिवाजी ने कई मस्जिद निर्माण के लिए उचित मात्रा में दान भी किया है। 
  • शिवाजी के राज में हिन्दू पंडितों व राजपुरोहित जितना सम्मान ही मुस्लिम धर्म के संत व फ़कीरो को दिया जाता था। 
  •   उनकी सेना में भी हर धर्म के सैनिक मौजूद थे। 
  • शिवाजी महाराज हिन्दू संस्कृति का भी बहुत प्रचार प्रसार किया करते थे। तथा अक्सर शिवाजी अपने अभियानों का आरम्भ दशहरे पर किया करते थे। 


8. शिवराई : 

  • शिवाजी ने एक शासक के रूप में अपने नाम का सिक्का चलाया जिसे  “शिवराई” नाम से जाना जाता है। जिसके ऊपर अंक संस्कृत भाषा में अंकित है। 

9. शिवाजी की मृत्यु : 

  • लगातार 3 सप्ताह तक बीमारी की चपेट में रहने के बाद 3 अप्रैल 1680 को शिवाजी महाराज वीरगति को प्राप्त हो गए 
  • हर वर्ष 19 फरवरी को (शिवाजी महाराज का जन्मदिन) शिवाजी जयंती मनाई जाती है। 

FAQ : 

Q. शिवाजी महाराज का जन्म कब हुआ ?

Ans. 19 फरवरी 1630  

Q.  शिवाजी महाराज का जन्म कहाँ हुआ ?

Ans. शिवनेरी दुर्ग, महाराष्ट्र

Q.  शिवाजी की कितनी पत्नियां थी ?

Ans. 4 

Q.  शिवजी के पिता का क्या नाम है ?

Ans. शाहजी भोंसले 

Q. शिवाजी की पत्नी का क्या नाम था ?

Ans.सईबाई, सोयराबाई, पुतळाबाई, सकवरबाई

Q शिवाजी की  माता का क्या नाम है? 

Ans. जीजा बाई 

Q. शिवाजी जयंती कब मनाई जाती है ?

Ans. 19 फरवरी को

Q. शिवाजी का धर्म क्या है?

Ans. हिन्दू

Q. शिवाजी के पुत्र का क्या नाम है ? 

Ans. संभाजी, राजाराम 

Q. शिवाजी का राज्याभिषेक कब हुआ ? 

Ans. पहली बार 6 जून 1674, दूसरी बार  4 अक्टूबर 1674

Q. शिवाजी किस राजघराने से है ?

Ans. मराठा 

Q. शिवाजी की मृत्यु क्यों हुई?

Ans. बीमारी की वजह से 

Q. शिवाजी का विवाह कब हुआ? 

Ans. 14 मई 1640  

Q. शिवाजी की रुचियाँ क्या थी?

Ans. घुड़सवारी और तलवारबाजी 

Q. शिवाजी की मृत्यु कब हुई ?

Ans. 3 अप्रैल 1680 

Q. शिवाजी की मृत्यु कहां पर हुई ? 

Ans. रायगढ़ मराठा साम्राज्य महाराष्ट्र  



दोस्तों आज की इस पोस्ट में हमने छत्रपति शिवाजी महाराज की जीवनी के बारे में जाना है आपको ये पोस्ट कैसी लगी मुझे कमेंट करके जरूर बताये और हाँ ऐसी मज़ेदार पोस्ट हम आपके लिए लाते रहेंगे अगर आप भी चाहते है उन्हें पढ़ना तो आप हमारी वेबसाइट Knovn.in को फॉलो कर सकते है। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments